Tag Archive: Beautiful Quotes

Jul 15

Poem – तुम्हारे साथ आजकल

​ तुम्हारे साथ आजकल तुम्हारे साथ आजकल, यूँ हर जगह रहता हूँ मैं हद से ज्यादा सोचू तुम्हें, बस यहीं सोचता हूँ मैं पता नहीं हमारे दरमियान, यह कौनसा रिश्ता है लगता है के सालों पुराना, अधूरा कोई किस्सा है तुम्हारी तस्वीरों में मुझे, अपना साया दिखता है महसूस करता है जो यह मन, वहीं …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://www.zappmania.in/2016/07/15/%e0%a4%a4%e0%a5%81%e0%a4%ae%e0%a5%8d%e0%a4%b9%e0%a4%be%e0%a4%b0%e0%a5%87-%e0%a4%b8%e0%a4%be%e0%a4%a5-%e0%a4%86%e0%a4%9c%e0%a4%95%e0%a4%b2.htm

Jul 13

Poem -हिसाब क्या रखें

​ !! …हिसाब क्या रखें… !! समय की इस अनवरत  बहती धारा में ..  अपने चंद सालों का हिसाब क्या रखें .. !!  जिंदगी ने दिया है जब इतना बेशुमार यहाँ ..  तो फिर जो नहीं मिला उसका  हिसाब क्या रखें .. !!  दोस्तों ने दिया है इतना  प्यार यहाँ ..  तो दुश्मनी की बातों …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://www.zappmania.in/2016/07/13/poem-%e0%a4%b9%e0%a4%bf%e0%a4%b8%e0%a4%be%e0%a4%ac-%e0%a4%95%e0%a5%8d%e0%a4%af%e0%a4%be-%e0%a4%b0%e0%a4%96%e0%a5%87%e0%a4%82.htm

Jun 09

आदमी की औकात

।। आदमी की औकात ।। एक माचिस की तिल्ली, एक घी का लोटा, लकड़ियों के ढेर पे कुछ घण्टे में राख.. बस इतनी-सी है !! आदमी की औकात !! एक बूढ़ा बाप शाम को मर गया , अपनी सारी ज़िन्दगी , परिवार के नाम कर गया। कहीं रोने की सुगबुगाहट  , तो कहीं फुसफुसाहट , …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://www.zappmania.in/2016/06/09/%e0%a4%86%e0%a4%a6%e0%a4%ae%e0%a5%80-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%94%e0%a4%95%e0%a4%be%e0%a4%a4.htm

Dec 27

Poem – शून्य

शून्य पढोगे तो रो पड़ोगे … अपने लिए भी जियें ..! थोड़ा सा वक्त निकालो वरना…………………. ज़िंदगी के 20 वर्ष.. हवा की तरह उड़ जाते हैं…! फिर शुरू होती है….. नौकरी की खोज….! ये नहीं वो, दूर नहीं पास. ऐसा करते 2-3 नौकरीयां छोड़ते पकड़ते…. अंत में एक तय होती है, और ज़िंदगी में थोड़ी …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://www.zappmania.in/2015/12/27/poem-%e0%a4%b6%e0%a5%82%e0%a4%a8%e0%a5%8d%e0%a4%af.htm

Dec 04

Poem – बचपन का जमाना था

बचपन का जमाना एक बचपन का जमाना था, जिस में खुशियों का खजाना था.. . चाहत चाँद को पाने की थी, पर दिल तितली का दिवाना था.. . खबर ना थी कुछ सुबहा की, ना शाम का ठिकाना था.. थक कर आना स्कूल से, पर खेलने भी जाना था… एक बचपन का जमाना था, जिस …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://www.zappmania.in/2015/12/04/poem-%e0%a4%ac%e0%a4%9a%e0%a4%aa%e0%a4%a8-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%9c%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%a8%e0%a4%be-%e0%a4%a5%e0%a4%be.htm

Older posts «