Tag Archive: Hindi shayari

Oct 06

Poem – खुश हूं

Poem of positivity : । खुश हूं 😊 “जिंदगी है छोटी,” हर पल में खुश हूं “काम में खुश हूं,” आराम में खुश हू 😊 “आज पनीर नहीं,” दाल में ही खुश हूं “आज गाड़ी नहीं,” पैदल ही खुश हूं 😊 ” अगर किसी का साथ नहीं,” तो अकेला ही खुश हूं ” . , …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://www.zappmania.in/2015/10/06/poem-%e0%a4%96%e0%a5%81%e0%a4%b6-%e0%a4%b9%e0%a5%82%e0%a4%82.htm

Jan 21

सुख तू कहाँ मिलता है

सुख तू कहाँ मिलता है ऐ सुख तू कहाँ मिलता है क्या तेरा कोई स्थायी पता है क्यों बन बैठा है अन्जाना आखिर क्या है तेरा ठिकाना। कहाँ कहाँ ढूंढा तुझको पर तू न कहीं मिला मुझको ढूंढा ऊँचे मकानों में बड़ी बड़ी दुकानों में स्वादिस्ट पकवानों में चोटी के धनवानों में वो भी तुझको …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://www.zappmania.in/2015/01/21/%e0%a4%b8%e0%a5%81%e0%a4%96-%e0%a4%a4%e0%a5%82-%e0%a4%95%e0%a4%b9%e0%a4%be%e0%a4%81-%e0%a4%ae%e0%a4%bf%e0%a4%b2%e0%a4%a4%e0%a4%be-%e0%a4%b9%e0%a5%88.htm

Jan 17

मुझे शिकायत है

मुझे शिकायत है मुझे शिकायत है तुम से की तुम मेरे क्यूँ हो, हो अगर तुम मेरे तो अकेले क्यूँ हो, मेरे हाथ मे हाथ होता है तुम्हारा पर तुम नही होते, साथ होता है तुम्हारा पर तुम साथ नही होते… मुझे शिकायत है तुम से की तुम तुम क्यूँ हो, रहते हो अगर मेरे …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://www.zappmania.in/2015/01/17/%e0%a4%ae%e0%a5%81%e0%a4%9d%e0%a5%87-%e0%a4%b6%e0%a4%bf%e0%a4%95%e0%a4%be%e0%a4%af%e0%a4%a4-%e0%a4%b9%e0%a5%88.htm

Jan 17

Poem – अभी बाकी है

अभी बाकी है दिल मे एक कशमकश अभी बाकी है कही तेरे आने की उम्मीद अभी बाकी है | चलें कभी कदम-दो कदम तेरे संग, बस इतनी सी ख्वाहिश अभी बाकी है || इन अंधेरो से भरे रस्तो मे, तेरी रोशनी की एक किरण अभी बाकी है | मुरझा रहा है तेरा ये उपवन, तेरी …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://www.zappmania.in/2015/01/17/poem-%e0%a4%85%e0%a4%ad%e0%a5%80-%e0%a4%ac%e0%a4%be%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%b9%e0%a5%88.htm

Nov 10

Poem – ताकि घर चल सके

30 + उम्र के मित्रो के लिए एक कविता l जरूर पड़े… ताकि घर चल सके जीवन में पैतीस पार का मर्द…….. कैसा होता है ? थोड़ी सी सफेदी कनपटियों के पास, खुल रहा हो जैसे आसमां बारिश के बाद, जिम्मेदारियों के बोझ से झुकते हुए कंधे, जिंदगी की भट्टी में खुद को गलाता हुआ, …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://www.zappmania.in/2014/11/10/poem-%e0%a4%a4%e0%a4%be%e0%a4%95%e0%a4%bf-%e0%a4%98%e0%a4%b0-%e0%a4%9a%e0%a4%b2-%e0%a4%b8%e0%a4%95%e0%a5%87.htm

Older posts «