Tag Archive: Poems

Apr 23

Poem – गायब

  सावन की पुरवईया गायब .. पोखर,ताल, तलईया गायब…! कच्चे घर तो पक्के बन गये.. हर घर से आँगनइया गायब…! सोहर, कजरी ,फगुवा भूले.. बिरहा नाच नचईया गायब…! नोट निकलते ए टी म से…. पैसा , आना ,पईया गायब…! दरवाजे पर कार खड़ी हैं.. बैल,, भैंस,,और गईया गायब…! सुबह हुई तो चाय की चुस्की.. चना-चबैना …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://www.zappmania.in/2016/04/23/poem-%e0%a4%97%e0%a4%be%e0%a4%af%e0%a4%ac.htm

Apr 21

देखते ही देखते पिताजी बूढ़े हो जाते हैं

देखते ही देखते पिताजी बूढ़े हो जाते हैं हर साल सर के बाल कम हो जाते हैं… बचे बालों में और भी चाँदी पाते  हैं.. चेहरे पे झुर्रियों की तादाद  बढ़ा जाते हैं… रीसेंट पासपोर्ट साइज़ फोटो में, कितना अलग नज़र आते हैं…. “अब कहाँ पहले जैसी बात” कहते जाते हैं… देखते ही देखते पिताजी …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://www.zappmania.in/2016/04/21/%e0%a4%a6%e0%a5%87%e0%a4%96%e0%a4%a4%e0%a5%87-%e0%a4%b9%e0%a5%80-%e0%a4%a6%e0%a5%87%e0%a4%96%e0%a4%a4%e0%a5%87-%e0%a4%aa%e0%a4%bf%e0%a4%a4%e0%a4%be%e0%a4%9c%e0%a5%80-%e0%a4%ac%e0%a5%82%e0%a5%9d.htm

Dec 27

Poem – शून्य

शून्य पढोगे तो रो पड़ोगे … अपने लिए भी जियें ..! थोड़ा सा वक्त निकालो वरना…………………. ज़िंदगी के 20 वर्ष.. हवा की तरह उड़ जाते हैं…! फिर शुरू होती है….. नौकरी की खोज….! ये नहीं वो, दूर नहीं पास. ऐसा करते 2-3 नौकरीयां छोड़ते पकड़ते…. अंत में एक तय होती है, और ज़िंदगी में थोड़ी …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://www.zappmania.in/2015/12/27/poem-%e0%a4%b6%e0%a5%82%e0%a4%a8%e0%a5%8d%e0%a4%af.htm

Oct 06

Poem – खुश हूं

Poem of positivity : । खुश हूं 😊 “जिंदगी है छोटी,” हर पल में खुश हूं “काम में खुश हूं,” आराम में खुश हू 😊 “आज पनीर नहीं,” दाल में ही खुश हूं “आज गाड़ी नहीं,” पैदल ही खुश हूं 😊 ” अगर किसी का साथ नहीं,” तो अकेला ही खुश हूं ” . , …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://www.zappmania.in/2015/10/06/poem-%e0%a4%96%e0%a5%81%e0%a4%b6-%e0%a4%b9%e0%a5%82%e0%a4%82.htm

Sep 22

Morning after I killed myself

The morning after I killed myself, I woke up. I crept outside for an early cigarette. I made myself breakfast. I added salt and pepper to my eggs and used my toast for a cheese sandwich. I squeezed a grapefruit into a juice glass. I scraped the ashes from the frying pan and rinsed the …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://www.zappmania.in/2015/09/22/morning-after-i-killed-myself.htm

Older posts «